Home उत्तराखण्ड गुरुवाणी और अरदास के साथ खुले हेमकुंड साहिब के कपाट

गुरुवाणी और अरदास के साथ खुले हेमकुंड साहिब के कपाट

160
0
SHARE

चमोली। सिखो के पवित्र स्थल हेमकुंड साहिब के कपाट 4 माह के लिए खोल दिए गये है आज पंच प्यारे की अगुवाई मे सिखों का पहला जत्था घांघरिया से हेमकुंड पहुंचा सुबह से ही हेमकुंड मे गुरुवाणी और अरदास का पाठ होता रहा इस दौरान हजारों की संख्या मंे सिख श्रद्धालुओं ने हेमकुंड मे मथा टेका।

क्या है हेमकुंड का इतिहास हम को बताते है
हेमकुंड में गुरु गोबिन्द सिंह जी ने महाकाल की तपस्या की थी। हेमकुंड सुमेरु पर्वत का एक कोना है। इसके पास ही सप्तश्रृंग नामक पर्वत है। यहां पर पांडवों के पिता महाराज पांडु ने तपस्या की थी।
सिख ग्रंथो के इतिहास को पड़कर संत सोहन सिंह जी, जो टिहरी गढ़वाल वाणी का उपदेश कर रहे थे, मन में इस पवित्र स्थान को खोजने की इच्छा हुई। सोहन सिंह जी गुरु जी के प्रति असीम श्रद्धा रखते थे। अतरू उन्होंने संकल्प कर लिया कि वे उस स्थान की अवश्य ढूंढ निकालेंगे। इसके लिए सोहन सिंह जी ने कई साधु-संतों से जानकारी प्राप्त करनी शुरू की। इस विषय को लेकर संत जी कई दिन तक इधर-उधर भटकते हुए बदरीनाथ पहुंचे। वहां से लौटते समय वे किसी कारणवश रात्रि में पांडुकेश्वर रुक गए। यहां उन्हें पता चला कि पांडुकेश्वर को राजा पांडु की तप भूमि होने के कारण पांडुकेश्वर कहते हैं। संत जी की आधी गुत्थी सुलझ गयी लेकिन सप्तश्रृंग अभी भी उन्हें नहीं दिखाई दिया। एक दिन सवेरे-सवेरे स्थानीय लोगों का एक समूह नए नए वस्त्र पहनकर कही जाने की तैयारी में था पुछने पर संत जी को पता चला कि ये लोग हेमकुंड लोकपाल तीर्थ में स्नान करने जा रहे हैं। संत जी भी उनके पीछे-पीछे हेमकुंड चल दिए।उस समय अलकनंदा नदी पर कोई पुल नहीं था। लोग उसे एक रस्सी पर झूल कर पार करते थेद्य सभी लोगो के साथ संत सोहन सिंह जी भी रात्रिं तक घांघरिया पहुंचे और वहां से दूसरे दिन हेमकुंड। वहां पहुंचते ही संत जी को सात चोटियों वाला पर्वत सप्तश्रृंग दिखायी दिया, जहां गुरु गोबिन्द सिंह ने महाकाल की तपस्या की थी।
अब संत जी उस स्थान की पहचान में लग गए जहां गुरु जी तपस्या में बैठे थे। यह काम अत्यधिक कठिन था। कहते हैं कि तब संत सोहन सिंह जी ने गुरु जी की (अरदास) प्रार्थना की कि हे प्रभु! आपकी क्रपा से मैं आप की तपोभूमि तक तो आ गया हूं। अब आप मुझे वह स्थान बताएं जहां आप जोत जगाकर शोभा बढ़ाते थे। कहते हैं कि ज्यों ही संत जी ने अरदास पूरी की, कमर तक जटा, नाभि तक दाड़ी रखे, शेर की खाल पहने एक अवधूत प्रकट हुआ और बोला- खालसा किसे ढूंढते हो संत जी ने कहा कि हे जोगीश्वर महाराज! मैं अपने गुरु जी का स्थान ढूंढ रहा हूं। जोगीश्वर बोले कि यही वह शिला है जहां गुरुजी बैठते थे। यह सुनकर संत जी भाव विभोर होकर उस शिला से लिपट गए। उनकी आखों से खुशी की धार बहने लगी। उन्होंने जोगीश्वर की ओर उत्सुकता से देखा लेकिन तब तक वे गायब हो चुके थे।
संत जी ने जोगीश्वर की चरण धूलि सर माथे ली और वापस लौट गए। कुछ दिनों बाद संत जी ने अमृतसर जाकर भाई वीरसिंह सरदार को सारी बात बताई। भाई जी यह सुनकर बहुत प्रसन्न हुए और संत जी से कहा कि वहां जाकर गुरु ग्रंथ का प्रकाश कर दो। इस प्रकार 1936 ई. में वहां एक छोटा सा गुरुद्वारा बनकर तैयार हो गया। सन् 1937 ई. के शुरू में वहां गुरु ग्रंथ साहिब का पहला प्रकाश (पूजा) हुआ। हेमकुंड अत्यधिक ऊंचाई वाले तीर्थों में से है। इसकी ऊंचाई 4329 मीटर है। हेमकुंड में ठहरने की आज भी कोई व्यवस्था नहीं है। श्रद्धालु शाम तक वापस घांघरिया आ जाते हैं। घांघरिया, भ्यूडार व पुलना चट्टी में यात्रियों की जरूरी सामान उपलब्ध हो जाता है सैकड़ों-हजारों सिख हेमकुंड साहिब पहुंचते हैं। सिख धर्म में यह पवित्र तीर्थ माना गया है। सिख लोग गुरु का संकल्प लेकर घरों से जलसों के रूप में यात्रा के लिए निकलते हैं। पूरी यात्रा का मार्ग ‘जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल’ से गूंज उठता है। सप्तश्रृंग के दर्शन होते ही श्रद्धालु मत्था टेककर अपने गुरु की श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं। हेमकुंड पहुंचकर सर्वप्रथम सरोवर में स्नान किया जाता है। उसके बाद गुरुद्वारे में पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब पर चढ़ावा चढ़ता है आज से शुरू हुई हेमकुंड की यात्रा चरम पर जिला प्रशासन ने चारधाम यात्रा की भांति हेमकुंड साहिब की यात्रा के भी पुख्ता इंतजाम किए है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here