Home उत्तराखण्ड शंकाराचार्यो के पद पर विवाद खड़ा न करें निश्चलानंद: स्वरुपानंद सरस्वती महाराज

शंकाराचार्यो के पद पर विवाद खड़ा न करें निश्चलानंद: स्वरुपानंद सरस्वती महाराज

1189
0
SHARE

जोशीमठ। जोशीमठ मे पूरी के शंकाराचार्य निश्चलानंद महाराज के बयान पर अब एक बार फिर से शंकराचार्य स्वरुपानंद सरस्वती महाराज ने पलटवार किया शंकराचार्य ने एक पत्र मे लिखा है कि पुरी पीठाधीश्वर जी का इस संवेदनशील समय मे जोशीमठ मे जाकर ज्योतिषपीठ शंकराचार्य के विषय मे दिया गया बयान जनमानस को उलझाने वाला है सर्वप्रथम तो पूरी के महाराज यह बताये कि सन् 1953 मे जो कृष्णबोधाश्रम जी का अभिषेक उनके गुरु स्वामी करपात्री जी महाराज एव तत्कालीन द्वारका के शंकराचार्य एव विद्रत्समाज ने किया था वह वैध था अवैध ? पत्र मे लिखा गया है कि अगर अभिषेक वैध था तो शान्तानंद विष्णुदेवानन्द द्वारका और वासुदेवानंद की तो चर्चा ही नही उठानी चाहिए थी जो भी बात जोशीमठ मे इन सब के बारे मे निश्चलानंद जी ने उठाई है वह गुरुद्रोह है पत्र मे यह भी कहा गया है कि जब देवभूमि पर निश्चलानंद महाराज आये है तो उनको ज्योतिषपीठ के मठ मे जाना चाहिए था पर वे नही गये क्या वे भाजपा के लोगो के स्वागत संस्कार के लिए गये है स्वरुपानंद सरस्वती महाराज ने पत्र मे यहा तक लिखा है कि जब एक व्यक्ति दो पीठ का शंकराचार्य नही हो सकता है तो निश्चलानंद जी का तो सरकारी कागज मे दो नाम दर्ज है एक मे पूरी के शंकाराचार्य के रुप मे इनका नाम निश्चलानंद सरस्वती देवतीर्थ लिखा है तो एक ही व्यक्ति सरस्वती और देवतीर्थ कैसे हो सकता है यह मामला अब तब उठा जब मंगलवार को जोशीमठ पहुंचे पुरी के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती महाराज ने ज्योतिषपीठ के दोनो शंकराचार्य पर कही सवाल खड़े किए उन्होंने ये तक कहा कि ज्योतिषपीठ के दोनो शंकराचार्यो के विवाद की वजह से आज शंकराचार्य पद से लोगो की आस्था कम हो रही है निश्चलानंद ने कहा था कि दो पीठ का शंकराचार्य केवल अल्प समय तक रह सकता है वही ग्रस्थ आश्रम वाला व्यक्ति शंकराचार्य बन सकता है लेकिन वह भी परम्परा के आधार पर अब इस मामले मे एक बार फिर से शंकराचार्यो की आपसी लड़ाई को सामने लाकर खड़ा कर दिया है खेर निश्चलानंद महाराज तो चंद दिनो के लिए देवभूमि मे यात्रा पर आये है पर सवाल यह भी उठने लगा है कि ज्योतिषपीठ के शंकराचार्य की आपसी लड़ाई कब तक चलेगी और क्या शंकराचार्यो के मठ साल भर सुने पड़े रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here