Home उत्तराखण्ड आयुष्मान योजना पर धीमि गति से कार्य होने पर नाराज डीएम

आयुष्मान योजना पर धीमि गति से कार्य होने पर नाराज डीएम

66
0
SHARE
  1. चमोली केन्द्र सरकार की महत्वाकांक्षी कार्यक्रम आयुष्मान भारत योजना के तहत जिले में गोल्डन कार्ड बनाने की मौजूदा रफ्तार पर जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने नाराजगी जाहिर करते हुए इसमें तेजी लाने के निर्देश दिये है। सोमवार को जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में लेते हुए जिलाधिकारी ने आयुष्मान भारत योजना को गति देने के लिए कैंप लगाकर अधिक से अधिक लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनाने पर जोर दिया।

जिलाघिकारी ने ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित सभी जन सेवा केन्द्रों (सीएससी) को सक्रिय करते हुए  आयुष्मान भारत योजना के गोल्डन कार्ड बनाने में तेजी लाने के निर्देश दिये। कहा कि तहसील मुख्यालय, नगर पालिका तथा प्रमुख बैंको में भी सीएससी के माध्यम से गोल्डन जारी किये जाय। जिलाधिकारी ने गांव क्षेत्रों में गोल्डन कार्ड बनाने के लिए लगने वाले कैंपों का रोस्टर तैयार करते हुए आशाओं के माध्यम से इसका व्यापक प्रचार प्रसार करने के निेर्देश दिये है, ताकि अधिक से अधिक लोग कैंप का लाभ उठा सके। गोल्डन कार्ड बनाने के लिए राशन कार्ड की अनिवार्यता को देखते हुए जिलाधिकारी ने पूर्ति अधिकारी को सभी राशन डीलरों व ग्राम प्रधानों से संपर्क करते हुए राशन उपभोक्ताओं की सूची सहित कैंप में प्रतिभाग करने हेतु सूचित करने के निर्देश दिये है, ताकि राशन कार्ड संबधी किसी भी समस्या का मौके पर ही समाधान हो सके। जिलाधिकारी ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना का उदेश्य सभी लोगों को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है। इसके अन्तर्गत 1350 से अधिक बीमारियों के इलाज हेतु 5 लाख तक कैशरहित स्वास्थ्य बीमा की सुविधा मिलेगी। उन्होंने अधिक से अधिक लोगों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ उठाने के लिए गोल्डन कार्ड बनाने की अपील की है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं आयुष्मान भारत के नोडल अधिकारी ने बताया कि जिले में 3 लाख, 91 हजार, 650 लोगों के गोल्डन कार्ड बनाये जाने है, जिसमें से अभी तक 9 हजार, 430 लोगों के गोल्डन कार्ड बनाये जा चुके है। जिले की सभी सीएचसी सेन्टर व जिला अस्पताल में निशुल्क गोल्डन कार्ड बनाये जा रहे है तथा किसी भी जन सेवा केन्द्रों में 30 रु0 के शुल्क पर गोल्डन कार्ड बनाया जा सकता है। गोल्डन कार्ड बनाने के लिए लाभार्थी को राशन कार्ड, आधार कार्ड, मोबाइल नम्बर तथा एमएसबीवाई कार्ड अपने साथ लाना जरूरी है। आयुष्मान भारत के जिला समन्वयक ने बताया कि जिले में 140 जन सेवा केन्द्र है जिसमें से 130 सक्रिय है। गोल्डन कार्ड बनाने में अधिकतर राशनकार्ड पंजीकरण संख्या तथा इंटरनेट की समस्या आ रही है।

इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 तृप्ति बहुगुणा, आयुष्मान भारत के नोडल अधिकारी डा0 हरीश थपलियाल, जिला समन्वयक ओम प्रकाश डंगवाल, जिला शिक्षा अधिकारी आशुतोष भण्डारी सहित सभी संबधित अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here