Home उत्तराखण्ड बद्रीनाथ धाम में सुविधाओं और इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े कार्यो की समीक्षा

बद्रीनाथ धाम में सुविधाओं और इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े कार्यो की समीक्षा

79
0
SHARE

जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने सोमवार को अपने कार्यालय कक्ष में प्रसाद योजना की बैठक के तहत श्री बद्रीनाथ धाम में प्रस्तावित कार्यो की समीक्षा करते हुए निर्माण एजेंन्सियों को गुणवत्ता के साथ समय से कार्य शुरू करने के निर्देश दिये है। कहा कि बद्रीनाथ धाम में सुविधाओं और इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़े कार्यो की प्रतिमाह माॅनिटरिंग व प्रगति समीक्षा की जायेगी। भारत सरकार द्वारा शुरू की गई प्रसाद योजना के तहत जनपद के श्री बद्रीनाथ धाम में 40 करोड़ की लागत से मंदिर में एलईडी प्रकाश व्यवस्था, पार्किंग काॅम्पलेक्स, आस्था पथ, तालाब की सुन्दरता, तप्त कुड के निकट चेंजिंग रूम एवं तीर्थ यात्रियों के लिए अन्य जरूरी सुविधाएं विकसित की जानी है, जिसके लिए 24 माह का समय निर्धारित है।

जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था नेशनल प्रोजेक्ट कन्सट्रक्शन काॅरपोरेशन लि0 (एनपीसीसी) को बद्रीनाथ धाम में तीर्थ यात्रियों की सुविधा के लिए शीघ्र कार्य शुरू कराने के निर्देश दिये है। बद्रीनाथ धाम में ठंड को देखते हुए जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्था को आवश्यकता के अनुसार कम से कम मजदूर लगाने को कहा। उन्होंने मजदूरों को कार्य पर लगाने से पूर्व अनिवार्य रूप से जिला प्रशासन से अनुमति भी लेने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रसाद योजना के तहत धाम में संचालित होने वाले कार्यो की प्रतिमाह उनके द्वारा समीक्षा की जायेगी। उन्होंने आगामी समीक्षा बैठक में बद्रीनाथ धाम के व्यापार संघ व अन्य लोगों को भी शामिल करने को कहा, ताकि उन्हें भी संचालित प्रोजेक्ट के संबध में जानकारी रहे। उन्होंने कार्यदायी संस्था को स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि तीर्थ यात्रियों की सुविधाओं के विकास और इंफ्रास्ट्रक्चर से जुडे कार्यो की गुणवत्ता से किसी प्रकार से समझौता नही किया जायेगा।

इसके अलावा जिलाधिकारी ने चमोली जनपद के पंचबद्री व अन्य धार्मिक तथा पर्यटन स्थल के विकास हेतु जिला पर्यटन अधिकारी को ठोस प्लान तैयार करने के निर्देश दिये। कहा कि जनपद में पर्यटन विभाग की बेकार पडी कुछ परिसम्मपत्तियां को उपयोग में लाने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है। उन्होंने जनपद में पर्यटन एवं धार्मिक स्थलों का टूरिस्ट मैप भी तैयार करने के निर्देश दिये, ताकि यहाॅ आने वाले पर्यटकों को जनपद के पर्यटक स्थलों की आसानी से जानकारी मिल सके। जिलाधिकारी ने यूटीडीबी के कन्सलटेंट से जनपद के पंचबद्री, मुख्य पर्यटक स्थलों, जनपद में स्थित तीनों प्रयागों को एक सर्किट के रूप में विकसित करने के लिए भी प्रस्ताव उपलब्ध कराने को कहा। उन्होंने जनपद में हब टूरिज्म डेस्टिनेशन विकसित करने तथा होम-स्टे योजनाओं को भी प्रमोट करने पर जोर दिया।

इस अवसर पर सीईओ बीकेटीसी बीडी सिंह, उप जिलाधिकारी योगेन्द्र सिंह, जिला पर्यटन विकास अधिकारी बीजेन्द्र पांडेय, ईओ नगर पंचायत बीना नेगी, यूटीडीबी के कन्सलटेंट वाई ममगाई, उदित सिंह, ललित मोहन जोशी, गिरीश रावत आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here