Home उत्तराखण्ड बच्चों का पसंदीदा कार्यक्रम ‘गली गली सिम सिम’ अब हफ्ते में छह...

बच्चों का पसंदीदा कार्यक्रम ‘गली गली सिम सिम’ अब हफ्ते में छह बार

18
0
SHARE

इस बार गर्मी में बच्चों के पास टेलीविजन देखने और उससे सीखने का शानदार मौका है। दुनिया भर में मशहूर सेस्मे स्ट्रीट का भारतीय संस्करण और पसंदीदा शैक्षिक मनोरंजन शो गली गली सिम सिम अब डीडी नेशनल पर हफ्ते में 6 बार आ रहा है। डीडी नेशनल पर प्रत्येक सोमवार से शुक्रवार दोपहर 3 से 4 बजे तक गली गली सिम सिम के स्वस्थ शरीर और मस्तिष्क विषय के एपिसोड प्रसारित हो रहे हैं। विशेष दैनिक सीरीज के अलावा इस शो का सीजन 9 शनिवार सुबह 10ः30 बजे प्रसारित किया जा रहा है।
गली गली सिम सिम में विशेष एपिसोड हैं, जो बच्चों को स्वस्थ रहने के लिए प्रेरित करते हैं। डीडी नेशनल पर चल रहे इन विशेष एपिसोड में बच्चों को खुश और सेहतमंद रहने के तरीके पता चलते हैं। शो के ‘गली की दुनिया’ सेगमेंट में आप मजेदार अंदाज में कसरत करते खड़ूसा को, एक फिल्म के लिए एक्सरसाइज किंग की भूमिका निभाते हीरो को, हीरो को डांस सिखाते हुए बूंबा को और ऐसी कई रोचक कहानियां देख सकते हैं। ‘वर्ड ऑन द स्ट्रीट’ सेगमेंट में ग्रोवर ‘कसरत’ और ‘एक्सरसाइज’ जैसे तमाम शब्दों के अर्थ ढूंढता हैं। शो में लाइव एक्शन सेगमेंट भी है, जिसमें बच्चों के लिए भारत के विभिन्न हिस्सों से कहानियां पेश की जाती हैं, जैसे कराटे का अभ्यास करने वाली नगालैंड की कहानी, पुष्कर से कच्ची घोड़ी नृत्य, फुटबॉल खेलने के गुण सिखाता कोलकाता का एक बच्चा और ढेर सारी दूसरी कहानियां। गली गली सिम सिम के अंदाज में पेश किए गए बॉलीवुड के नृत्य वाले गीत बच्चों को उठने और थिरकने के लिए प्रेरित करते हैं।
दूरदर्शन की महानिदेशक सुप्रिया साहू कहती हैं,“गली गली सिम सिम बच्चों का पसंदीदा शो रहा है। शो का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है और बच्चों ने ही नहीं बल्कि उनके माता-पिता ने भी इसे सराहा है। हम हमेशा बच्चों के लिए आकर्षक और उनकी उम्र के मुताबिक सामग्री तलाशते रहते हैं और गली गली सिम सिम बिल्कुल उसी के मुताबिक है। लोकप्रिय और दुलारे दोस्ताना मपेट्स (कठपुतली) वाला यह शो नन्हें दर्शकों का मनोरंजन भी करता है और उन्हें जरूरी जीवन कौशल भी सिखाता है।”
मोना सिंह, हेड दृ बिजनेस डेवलपमेंट एवं मार्केटिंग, सेस्मे वर्कशॉप इंडिया कहती हैं, “गली गली सिम सिम का बच्चों की सीखने की क्षमता पर पक्का प्रभाव हुआ है। इसकी को-व्यूअरशिप यानी माता-पिता और बच्चों के साथ बैठकर देखे जाने की दर बहुत अधिक है, जिससे बच्चों और घर के माहौल पर बहुत असर पड़ता है। बच्चों को आकर्षित करने और सिखाने के लिए मपेट का प्रयोग कर गली गली सिम सिम ने दिखाया है कि टेलीविजन पर सीखना भी मजेदार और दिलचस्प हो सकता है। आज तक गली गली सिम सिम, भारत में फ्री टु एयर टेलीविजन चैनलों पर प्रसारित होने वाला बच्चों (0 से 8 वर्ष) का एकमात्र शैक्षिक कार्यक्रम है। डीडी नेशनल के जरिये 1 करोड़1 बच्चे हमारे दर्शक हैं और हमें गर्व है कि हम राष्ट्रीय प्रसारक पर प्रसारित हो रहे हैं, जो भारत में बच्चों को उनकी उम्र के मुताबिक सामग्री मुहैया कराने वाले चुनिंदा चैनलों में है। अब डीडी नेशनल पर हफ्ते में 6 बार आने की हमें खुशी है। इसका मतलब है 6 गुना ज्यादा मस्ती, मनोरंजन और ज्ञान।”
गली गली सिम सिम के पीछे काम करने वाली संस्था सेस्मे वर्कशॉप इंडिया ने बच्चों की शिक्षा और मनोरंजन संबंधी जरूरतों का ध्यान रखते हुए विशेष विषयों पर आधारित एपिसोड तैयार किए हैं। उदाहरण के लिए गर्मी के मौसम के दौरान स्वस्थ शरीर और दिमाग को बढ़ावा देने वाले विशेष सेगमेंट होंगे। जून और जुलाई में बच्चे गर्मी की छुट्टियों के बाद स्कूल जाने की तैयारी करते हैं, इसलिए उस दौरान अक्षर ज्ञान और गणना पर विशेष एपिसोड होंगे, जो उन्हें स्कूल में होने वाली पढ़ाई के लिए तैयार करेंगे। आने वाले महीनों में स्वास्थ्य एवं सफाई, उत्सव, सुरक्षा सुनिश्चित करने तथा सामाजिक-भावनात्मक कौशल विकसित करने के बारे में विशेष सीरीज आएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here