Home उत्तराखण्ड मकान मालिक व किराएदार को बंधक बनाकर बदमाशों ने की लूट

मकान मालिक व किराएदार को बंधक बनाकर बदमाशों ने की लूट

21
0
SHARE

रुद्रपुर। कोतवाली क्षेत्रांर्गत सिंह कालोनी की गली नंबर छह में बीती रात बदमाशों ने मार्केटिंग विभाग किच्छा में तैनात विपणन सहायक के घर में घुस कर उन्हें बांध कर डाल दिया तथा एक कमरे में सो रहे उनके किराएदार को बाहर से बंद कर दिया। बदमाशों ने दोनों परिवारों के कमरों से तकरीबन 60 हजार रुपये की नकदी व डेढ़ लाख रुपये के सोने व चांदी के जेवरात तथा अन्य कीमती सामान लूट लिया। बदमाशों ने तकरीबन डेढ़ घंटे तक आराम से घर को खंगाला और फरार हो गए। घटना की जानकारी शुक्रवार सुबह को हुई तो विपणन सहायक को बंधनमुक्त किया गया। घटना की सूचना पर एसपी क्राइम कमलेश उपाध्याय, एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा, एएसपी स्वतंत्र कुमार सिंह मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने डॉग स्क्वायड व फोरेंसिक टीम को मौके पर बुलाया।
सिंह कालोनी की गली नंबर छह में मार्केटिंग विभाग किच्छा में विपणन सहायक के पद पर तैनात नरेश चैहान का आवास है। उसके आवास में सेठी नमकीन वाले शिवेन सेठी व उनका परिवार भी किराए पर रहता है। बीती रात करीब दो बजे बदमाशों ने उनके घर को निशाना बनाया। बदमाशों ने प्रथम तल पर ड्राइंग रूम की ग्रिल के पेंच खोल कर ग्रिल निकाली तथा घर में प्रवेश किया। ड्राइंग रूम के सामने कमरे में शिवेन, उसका भाई मेहुल व रजत और उनकी मां ममता सेठी सो रही थीं। बदमाशों ने उनके रूम का दरवाजा बाहर से लॉक कर दिया। उसके बाद बदमाश उनके दूसरे कमरे में घुसे जहां सेफ रखी थी। उन्होंने सेफ को तोड़ कर उसमें रखे करीब 40 हजार रुपये, दो सोने की अंगूठियां, करीब 40 चांदी के सिक्के व अन्य कीमती सामान कब्जे में लिया। इसी दौरान बदमाशों ने गृहस्वामी नरेश चैहान के बैडरूम में प्रवेश किया। हालांकि नरेश ने दरवाजा अंदर से बंद किया था, लेकिन बदमाशों ने जोरदार धक्का मारा तो किबाड़ की चटकनी टूट गई। बदमाशों ने नरेश चैहान के हाथ पैर व मुंह कस कर बांध दिया। उनके हाथ पीछे बांधे गए थे, ताकि वह मुंह न खोल सकें। साथ ही उन्हें उल्टा लेटे रहने को कहा। बदमाशों ने कहा कि सेफ की चाबी कहां है? नहीं बताएंगे तो गोली मार देंगे। अचानक हुए हमले से भयभीत नरेश ने इशारे से सेफ की चाबी बता दी। जिस पर बदमाशों ने सेफ खोल कर उसमें रखे चार तोले सोने के जेवरात व तकरीबन 15 हजार रुपये व अन्य कीमती सामान लूट लिया। नरेश चैहान ने बताया कि बदमाश करीब डेढ़ घंटे तक घर में रहे। सुबह अजान होने से कुछ देर पहले ही घर से निकल गए। बदमाशों के जाने के बाद उन्होंने खुद को बंधनमुक्त करने की काफी कोशिश की, मगर वह सफल नहीं हो सके। हार कर वह सुबह होने का इंतजार करते रहे। उन्होंने आवाज भी निकालने की कोशिश की, मगर मुंह बंधा होने के कारण आवाज बाहर नहीं जा पा रही थी। सुबह करीब साढ़े सात बजे सेठी परिवार जागा तो कमरा बाहर से लॉक था। जिस पर उनका एक भाई खिड़की से कूद कर बाहर निकला तो उसने घर का हाल देखा। उसने ही नरेश चैहान को बंधनमुक्त किया।
घटना की सूचना भाजपा नेता व पूर्व प्रधान अनिल चैहान को दी गई, जिस पर चैहान मौके पर पहुंचे। उन्होंने कोतवाली पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहले आदर्श कालोनी चैकी इंचार्ज ओमप्रकाश मौके पर पहुंचे। उसके बाद एएसपी स्वतंत्र कुमार व कोतवाल कैलाश चंद्र भट्ट ने पहुंच कर घटना की जानकारी हासिल की। घटना की गंभीरता को देखते हुए एसपी सिटी देवेंद्र पिंचा व एसपी क्राइम कमलेश उपाध्याय भी घटना स्थल का निरीक्षण करने पहुंचे। अफसरों ने तत्काल एसओजी प्रभारी तुषार बोरा, डॉग स्क्वायड व फोरेंसिक टीम को बुलाया। बदमाशों का सुराग लगाने के लिए डॉग स्क्वायड की मदद ली। फोरेंसिक टीम ने बदमाशों के फिंगर प्रिंट भी संग्रहीत किए। सिंह कालोनी निवासी विपणन सहायक नरेश चैहान की पत्नी परवीन चैहान इन दिनों अपने मायके रुड़की गई हैं तथा उनके दोनों पुत्र विदेश में हैं। चैहान ने बताया कि काफी गहने तो परवीन के साथ ही हैं और बाकी गहने लॉकर में होने के कारण बच गए। यदि उनकी पत्नी घर में होती तो शायद ज्यादा माल चला जाता।
बदमाशों ने विपणन सहायक नरेश चैहान को गोली मारने की धमकी देकर उनसे अलमारी की चाबी हासिल कर ली थी। नरेश चैहान की आंखों पर पट्टी बांध दी गई थी ताकि वह किसी को देख न सके। हालांकि बदमाशों की बातचीत से उन्हें इस बात का अंदाजा हो गया था कि बदमाशों की संख्या तीन से चार के बीच थी। वह इतने भयभीत हो गए थे कि उन्होंने विरोध करने का साहस नहीं जुटाया। हालांकि नरेश का कहना है कि बदमाशों के हाथ में सिर्फ सरिया ही थी।
बदमाशों ने विपणन सहायक नरेश चैहान के हाथ पैर को इतना कस कर बांधा था कि उनके हाथ व पैर में खून छलक आया था। दरअसल, बदमाशों के जाने के बाद नरेश ने खुद को बंधनमुक्त करने की कोशिश की, मगर उनकी तमाम कोशिशें नाकाम साबित हुई। उन्होंने डेढ़ दो घंटे का समय बड़ी मुश्किल से काटा, क्योंकि दिन निकलने से पहले उन्हें राहत की उम्मीद नहीं थी।
विपणन सहायक नरेश चैहान के घर जर्मन शैफर्ड डॉग है, जिसके डर से कोई घर के आस पास भी नहीं फटक सकता, मगर बदमाशों ने डॉग को कोई नशीला पदार्थ खिलाकर बेहोश कर दिया। सुबह होने पर डॉग होश में तो आ गया था, मगर वह किसी को देखकर भौंक तक नहीं पा रहा था।
लूट की घटना के खुलासे के लिए कई पुलिस टीमें गठित की गई हैं। एक टीम कालोनी में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाल रही है तो दूसरी टीम सर्विलांस के जरिए अपराधियों तक पहुंचने की कोशिश में है। चूंकि घटना स्थल के समीप रेलवे लाइन है, इसलिए यह संभव है कि अपराधी रेलवे लाइन के किनारे से ही आए और गए हों। सुबह के वक्त हल्द्वानी जाने के लिए ट्रेन भी है। चूंकि घटना को अंजाम देने का तरीका हल्द्वानी जैसा ही है इसलिए पुलिस इस घटना में उसी गैंग के शामिल होने से इंकार नहीं कर रही है।
सिंह कालोनी में हुई लूटपाट की घटना की सूचना पर विधायक राजकुमार ठुकराल मौके पर पहुंचे। उन्होंने पीडि़त परिवारों को सांत्वना दी तथा पुलिस अधिकारियों से घटना के खुलासे का अनुरोध किया। विधायक ठुकराल ने उम्मीद जताई कि पुलिस शीघ्र ही घटना का खुलासा करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here