Home उत्तराखण्ड प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद ग्रामीणों का आंदोलन समाप्त

प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद ग्रामीणों का आंदोलन समाप्त

23
0
SHARE

ऋषिकेश। विगत 39 दिनों से मुनि की रेती क्षेत्र के ढालवाला में ग्रामीणों द्वारा चल रहा शराब बिक्री का विरोध प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद समाप्त हो गया है, वही शराब के मोबाइल वैन को ढालवाला बाईपास मार्ग से हटाकर नरेन्द्र नगर मार्ग पर शिफ्ट कर दिया गया है।जिस पर आंदोलन का नेतृत्व कर रहे पूर्व विधायक ओमगोपाल रावत व कांग्रेस के जिलाध्यक्ष हिमांशु बिजल्वाण ने आंदोलन को ग्रामीणों की जीत बताया। उल्लेखनीय है कि शराब बिक्री को लेकर बुधवार को हुए हाई-वोल्टेज ड्रामे के बाद प्रशासन ने उक्त शराब के मोबाईल वाहन को आबादी क्षेत्र से बाहर कर भद्रकाली मंदिर से नरेन्द्र नगर मार्ग पर शिफ्ट कर दिया।
आज आंदोलन का नेतृत्व कर रहे पूर्व विधायक ओमगोपाल रावत व कांग्रेस जिलाध्यक्ष हिमांशु बिजल्वाण ने पत्रकार वार्ता कर आंदोलन की जीत का श्रेय स्थानीय ग्रामीणों व सभी दलों से जुड़े कार्यकर्ताओं को दिया जिन्होंने शराब विरोधी आंदोलन में सहयोग दिया। साथ ही प्रशासन को चेतावनी दी, कि यदि उक्त शराब के ठेके को पुनः आबादी क्षेत्र में लाया गया तो ग्रामीण इसका विरोध करेंगे जिसकी जिम्मेदारी क्षेत्रीय विधायक की होगी की वह ठेके को आबादी क्षेत्र में लाये या जनहित में ठेके को आबादी से दूर रखें। साथ ही उन्होंने कहा कि जहाँ अवैध रूप से शराब बिक रही है वहां पर ही शराब का ठेका खोला जाए, क्यूंकि मुनिकीरेती-ढालवाला धार्मिक क्षेत्र है वही यहां शिक्षण संस्थान भी है जिस ओर शराब ठेके को बुरा असर पड़ सकता है इस लिये यहाँ शराब ठेका खोलना जनहित में ठीक नही है। पत्रकार वार्ता में पूर्व विधायक ओमगोपाल रावत, कांग्रेस जिलाध्यक्ष टिहरी हिमांशु बिजल्वाण, युवा नेता अनुराग पयाल, महावीर खरोला, अजय रमोला, अनिल बहुखंडी, बलदेव रावत, विनोद सकलानी, गौरव गौड़, कुलदीप भण्डारी, दिनेश सकलानी, विजेंद्र राणा, महिशरण रतूडी, कुंवर सिंह राणा, पूरण पुंडीर आदि शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here