Home उत्तराखण्ड जोशीमठ की कुछ महिलाओ ने पर्यावरण संरक्षण पर ऐसा कारनामा कर दिखाया

जोशीमठ की कुछ महिलाओ ने पर्यावरण संरक्षण पर ऐसा कारनामा कर दिखाया

181
0
SHARE

15 साल से बच्चो की तरह पाला जंगल आज विश्व पर्यावरण दिवस है देश मे आज पर्यावरण दिवस के अवसर अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे है जिसमे पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र मे ठोस कदम उठाने पर देशभर मे संदेश दिया जा रहा है आज हम पर्यावरण दिवस के अवसर पर नारी शक्ति का एक प्रयास दिखाने जा रहे है जो कि पर्यावरण के संरक्षण के लिए काम करने वालो के लिए प्रेरणा दायक है जोशीमठ की कुछ महिलाओ ने पर्यावरण संरक्षण पर ऐसा कारनामा कर दिखाया है कि वन विभाग भी इससे प्रेरणा ले रहा है जोशीमठ नगर पालिका क्षेत्र के मनोहर बाग की महिलाओ ने अपने जंगल को बचाने के लिए संकल्प लिया और वर्ष 2003 मे एक बैठक कर पर्यावरण संरक्षण के लिए पहल करने की योजना बनाई उसके बाद सभी महिलाओ ने अपने चारा पत्ती के जंगलो को बचाने के लिए वृक्षारोपण किया महिलाओ ने वन विभाग के साथ मिलकर 100 नाली भूमि पर बांज, बुराश, केल, चीड़ आदि के पेडो का रोपण किया गया 15 साल तक अपने बच्चो के साथ इन महिलाओ ने पेडो की रक्षा की सबसे बड़ी बात यह है कि इन महिलाओ ने पर्यावरण को बचाने के लिए पारम्परिक लोक गीतो को गाकर पेड़ और जंगल को बचाने का प्रयास किया आज हर महिला इस जंगल को बचाने के लिए प्रयास कर रही है वही आज वन विभाग भी मान रहा है कि पर्यावरण को बचाने के लिए इसी प्रकार के दुर्लभ प्रयास करने की आवश्यकता है हर घर कि महिलाओ को संकल्प करना होगा कि हमको अपने जंगल की रक्षा करनी होगी जीवन मे कुछ करने की चाहत हो तो कुछ भी असंभव नही है बस कुछ अच्छा करने के लिए कदम उठाने की आवश्यकता है आज सरकार को भी सिखना होगा कि जमीन पर पर्यावरण संरक्षण के लिए कैसे उपाय किए जाते है समाज के लिए प्रेरणादायक इन महिलाओ का यह प्रयास जीवन के लिए सुखदायक है इस कार्य मे देवश्वरी देवी, नीमा देवी, गुड़ी देवी , ऊषा देवी, शान्ता भट्ट, जगदम्बा नौटियाल आदि ने जंगल को बचाने का प्रयास किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here