Home उत्तराखण्ड भारत के अंतिम गाँव चीन सीमा पर पांडव पूजा के लिए पहुँचे...

भारत के अंतिम गाँव चीन सीमा पर पांडव पूजा के लिए पहुँचे ग्रामीण

318
0
SHARE

बलबीर परमार
चीन बॉर्डर पर उत्तरकाशी में देश के अंतिम गाँव जादूंग में विस्थापित हुए दो गांव के ग्रामीणों ने पहुँच कर अपने देव देवताओ की पूजा अर्चना की। नेलांग जादूंग समेत तीन गाँव के ग्रामीण हर साल मई जून के महीने में देव डोली के साथ जादूंग पहुँचते है और पूजा अर्चना करते है। भारत चीन युद्ध से पहले ये सभी ग्रामीण यंही रहते थे और तिब्बत से व्यापार करते थे। युद्ध के बाद इस पूरे क्षेत्र को को सामरिक दृष्टि से प्रतिबंधित कर दिया गया था। वंही बॉर्डर पर रहने वाले ग्रामीणों का विस्थापन हर्षिल बगोरी कर दिया था। जिसके बाद से हर साल ग्रामीण हर्षिल बगोरी से जून माह में एक दिन अपनी ईष्ट देवी की डोली के साथ पूजा अर्चना करने पहुँचते है। इन लोगो की पांडवो में भी बड़ी आस्था है हर साल तीन गाव के ये ग्रामीण पांडव को पूजा अर्चना भी पांडवो की थात जादूंग बॉर्डर पर करते है । पांडवो से जुड़ी आस्था का संगम हर साल बॉर्डर पर देखा जाता है।

आज भी जादूंग बॉर्डर पर इन ग्रामीणों के पुराने कलाकारी से बने भवनों के अवशेष देखे जा सकते है।इस पल को देखने के लिए पर्यटक भी ग्रामीणों के साथ हर साल ग्रामीणों के साथ यंहा पहुँचते है।

भवनों के सुंदर सूंदर अवशेष आज भी ग्रामीणों को अलग सा अनुभव यंहा कराता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here