Home उत्तराखण्ड प्रथम कीर्ति चक्र विजेता इंद्र सिंह रावत ने दुनिया को कहा अलविदा...

प्रथम कीर्ति चक्र विजेता इंद्र सिंह रावत ने दुनिया को कहा अलविदा जानें उनके बारे में

33
0
SHARE

देहरादुन। देश की सेवा और रक्षा के लिए अपनी जान जोखिम में डालने वाले उत्तराखंड के प्रथम कीर्ति चक्र विजेता रिटायर्ड ले कर्नल इंद्र सिंह रावत ने 104 वर्ष की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह दिया। उन्होंने देहरादून ,रेसकोर्स स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली। बता दे की उन्हें नागालैंड में नागा विद्रोह को काबू करने के लिए अशोक चक्र-दो (कीर्ति चक्र) मिला था। उत्तराखंड एक्स सर्विसमेन लीग से जुड़े पूर्व सैनिकों ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। 11वीं गढ़वाल राइफल्स की सैन्य टुकड़ी ने उन्हें अंतिम सलामी दी।
ले. कर्नल रावत का जन्म 30 जनवरी 1915 को पौड़ी गढ़वाल के बगेली गांव (राठ क्षेत्र) के एक किसान परिवार में हुआ था। बता दे की ले. कर्नल इंद्र सिंह नेगी की जिंदगी से कई संस्मरण जुड़े रहे हैं। अपनी आत्मकथा में उन्होंने जिंदगी के कई संस्मरण लिखे हैं। उन्होंने लिखा है कि शादी के सात साल तक वह अपनी पत्नी आशा देवी की सूरत तक नहीं देख सके थे। उनका हरिद्वार में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। वह अपने पीछे दो बेटे ब्रिगेडियर (सेनि) राजेंद्र रावत व कमांडर हरेंद्र सिंह रावत और तीन बेटियां अंबा, राजेश्वरी व विजयलक्ष्मी समेत नाती-पोतों का भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं।
बता दे की कर्नल रावत ने सीमित संसाधनों के बावजूद गांव से करीब चार किमी दूर खिर्सू मिडिल स्कूल में दाखिला लिया और प्राथमिक शिक्षा प्राप्त की।वर्ष 1932 में 18 वर्ष की उम्र में उनका विवाह हुआ था। लेकिन परिस्थितियां ऐसी रही कि वर्ष 1939 तक एक दूसरे की सूरत तक देखने का मौका नहीं मिला। क्योंकि इस दौरान वह सैन्य सेवा के तहत देश से बाहर तैनात थे। 1934 में हाईस्कूल पास करने के बाद उन्होंने लैंसडौन का रुख किया और गढ़वाल राइफल्स में भर्ती हो गए।
रिक्रूट का प्रशिक्षण पूरा करने के यूनिट ने वर्ष 1937 में उन्हें आर्मी एजुकेशन स्कूल बेलगाम भेजा गया। इसके बाद वीसीओ स्कूल बरेली व आइएमए से कोर्स पूरा कर वर्ष 1944 में इंद्र सिंह कमीशंड अफसर बने। वर्ष 1947-48 के भारत-पाक युद्ध में उन्होंने दुश्मन सेना को मुहंतोड़ जबाव दिया। युद्ध विराम की घोषणा के बाद वह वर्ष 1953 में डेपुटेशन के तौर पर असम राइफल्स में चले गए। नागालैंड में नागा विद्रोह को काबू करने के लिए उन्हें अशोक चक्र-दो (कीर्ति चक्र) मिला। इसके बाद वह गढ़वाल राइफल्स की चैथी व पांचवीं बटालियन में भी तैनात रहे। वर्ष 1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद गठित भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल (आइटीबीपी) की पहली बटालियन का दारोमदार भी कर्नल रावत को सौंपा गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here