Home उत्तराखण्ड सतोपंथ झील पर ग्लोबल वार्मिंग का खतरा

सतोपंथ झील पर ग्लोबल वार्मिंग का खतरा

157
0
SHARE
ग्लोबल वार्मिंग का खतरा सतोपंथ झील पर इस बार कम बर्फ़बारी होने से पहाड़ सूखे पड़े है जहा ऊँचाई वाली हिम चोटियां बर्फ़बारी से लदालद रहते थे वही चोटियां खाली दिखाई दे रही है बद्रीनाथ धाम से आगे सतोपंथ झील पर भी कम बर्फ़बारी होने से सूखने का संकट मंडराने लगा है इन दिनो सतोपंथ ट्रेक पर्यटको के लिए खुला है जहा पर्यटक प्रेमी प्रकृति का सुन्दर नजारा देखने पहुंच रहे है टीम के एक सदस्य सोवेन्द्र रावत ने बताया कि पिछले साल की अपेक्षा इस बार मई माह मे अधिकांश बर्फ पिघल गई है वही पैदल ट्रैक पर ग्लेशियर भी कम है झील के आसपास की बर्फ कम बर्फ़ है वही चक्रतीर्थ के पास भी ग्लेशियर कम ही मात्रा मे दिखाई दे रहे है गौरतलब है कि बद्रीनाथ धाम से 22 किमी का पैदल ट्रैक पार कर पर्यटक सतोपंथ पहुंचते है और सतोपंथ ताल मे स्नान कर पाप मुक्त हो जाते है हालांकि की बरसात के बाद यहा जाने का आन्नद ही कुछ और है पर आजकल बद्रीनाथ धाम की यात्रा पर आने के साथ लोग सतोपंथ भी पहुंच रहे है
ग्लोबल वार्मिंग का खतरा सतोपंथ झील पर इस बार कम बर्फ़बारी होने से पहाड़ सूखे पड़े है जहा ऊँचाई वाली हिम चोटियां बर्फ़बारी से लदालद रहते थे वही चोटियां खाली दिखाई दे रही है बद्रीनाथ धाम से आगे सतोपंथ झील पर भी कम बर्फ़बारी होने से सूखने का संकट मंडराने लगा है इन दिनो सतोपंथ ट्रेक पर्यटको के लिए खुला है जहा पर्यटक प्रेमी प्रकृति का सुन्दर नजारा देखने पहुंच रहे है टीम के एक सदस्य सोवेन्द्र रावत ने बताया कि पिछले साल की अपेक्षा इस बार मई माह मे अधिकांश बर्फ पिघल गई है वही पैदल ट्रैक पर ग्लेशियर भी कम है झील के आसपास की बर्फ कम वही चक्रतीर्थ के पास भी ग्लेशियर कम ही मात्रा मे दिखाई दे रहे है गौरतलब है कि बद्रीनाथ धाम से 22 किमी का पैदल ट्रैक पार कर पर्यटक सतोपंथ पहुंचते है और सतोपंथ ताल मे स्नान कर पाप मुक्त हो जाते है हालांकि की बरसात के बाद यहा जाने का आन्नद ही कुछ और है पर आजकल बद्रीनाथ धाम की यात्रा पर आने के साथ लोग सतोपंथ भी पहुंच रहे है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here