Home उत्तराखण्ड मां धारी देवी पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक मानी जाती है

मां धारी देवी पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक मानी जाती है

68
0
SHARE

उत्तराखंड में श्रीनगर से करीब 14 किमी दूरी पर प्राचीन सिद्धपीठ धारी देवी मंदिर स्थित है। यहां प्राचीन मंदिर बांध की झील में डूब गया है, लेकिन इसके बाद भी भक्तों की आस्था नहीं डिगी। यहां से मां काली स्वरूप धारी देवी की प्रतिमा को उसी स्थान पर अपलिफ्ट कर अस्थायी मंदिर में स्थापित किया गया है। बांध की झील के ठीक बीचों-बीच अब नए मंदिर का निर्माण चल रहा है।
ऋषिकेश-बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर श्रीनगर से कुछ दूरी पर कलियासौड़ के समीप मां धारी देवी का मंदिर स्थित है। ऋषिकेश से मंदिर करीब 115 किमी की दूरी पर है। धारी देवी

को मां काली के रूप में पूजा जाता है। मान्यता अनुसार मां धारी उत्तराखंड के चारधाम की रक्षा करती है। इस देवी को पहाड़ों और तीर्थयात्रियों की रक्षक देवी माना जाता है। मंदिर में मूर्ति जागृत और साक्षात है। यह सिद्धपीठ श्रद्धालुओं की आस्था और भक्ति का प्रमुख केंद्र है। धारी गांव के पांडेय ब्राह्मण मंदिर के पुजारी हैं। जनश्रुति है कि यहां मां काली प्रतिदिन तीन रूप प्रातःकाल कन्या, दोपहर युवती और शाम को वृद्धा का रूप धारण करती हैं।
प्राचीन देवी की मूर्ति के इर्द-गिर्द चट्टान पर एक छोटा मंदिर स्थित था। मां धारी देवी का मंदिर अलकनंदा नदी पर बनी 330 मेगावाट श्रीनगर जल विद्युत परियोजना की झील से डूब क्षेत्र में आ गया। यहां से मां काली का रूप माने जाने वाली धारा देवी की प्रतिमा को 16 जून 2013 की शाम को हटाया गया। उस दौरान कुछ लोगों का कहना था कि प्रतिमा हटाने के कुछ घंटे के बाद ही उत्तराखंड में आपदा आई थी। हालांकि कुछ लोग इस बात को अंध विश्वास मानते हैं। मौजूदा समय में बांध से मंदिर का मूल स्थान डूब गया है। मूल स्थान से अपलिफ्ट कर अस्थायी मंदिर में मां धारी देवी की मूर्ति स्थापित की गई है। इसी स्थान पर अब स्थायी मंदिर का निर्माण चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here